जानिए क्या है Virtualization और कैसे करता है वर्चुअल कंप्यूटर सिस्टम का निर्माण

नई दिल्ली. आज के समय में हमारे सारे डेटा डिजिटलाइज हो चुके हैं. ऐसे में हमारे लिए इसकी सिक्योरिटी पर ध्यान देना बेहद अहम है. अगर हम अपने डिजिटल डेटा की सिक्योरिटी पर ध्यान न दें तो हमारी पर्सनल, प्रोफेशनल और डॉक्यूमेंट जैसी चीजें भी चोरी हो सकती है. अपनी सिक्योरिटी को मजबूत करने के लिए हम वर्चुलाइजेशन की मदद लेते हैं.

Virtualization सॉफ्टवेयर हमारे फिजिकल हार्डवेयर पर एक एब्स्ट्रेक्ट लेयर बनाता है. ऐसा करने से यह एक वर्चुअल कंप्यूटर सिस्टम का निर्माण करता है, जिसे वर्चुअल मशीन(VM) के रूप में जाना जाता है. इसकी मदद से कोई भी ऑर्गेनाइजेशन बहुत सारे वर्चुअल कंप्यूटर, ऑपरेटिंग सिस्टम, और एप्लीकेशन को एक फिजिकल सर्वर पर चला सकती है. आइए जानते हैं कि virtualization हमारे किस तरह से सिक्योरिटी बढ़ा सकता है.

1. Containerization
Virtualization का एक लेटेस्ट तरीका है कंटेनराइजेशन. इसे OS लेवल वर्चुलाइजेशन भी कहते हैं. इस प्रक्रिया में ऑपरेटिंग सिस्टम हर एप्लीकेशन के लिए एक अलग और पूरी ही तरह से आइसोलेट स्पेस बनाता है जिससे सभी एप्लीकेशन को ऐसा लगे कि वह सिस्टम पर चलने वाले एकमात्र एप्लीकेशन है.
सुरक्षा की दृष्टि से एप्लीकेशन एक दूसरे को नहीं देख सकते हैं और इसलिए वे सुरक्षित हैं.

2. Sandboxing
सैंडबॉक्सिंग बहुत ही लोकप्रिय मैकेनिज्म है. यह उन प्रोग्रामों को चलाता है जो अनॉन वेबसाइट, पार्टी या वेंडर से अलग से अनटेस्टेड कोड को एक्जिक्यूट करते हैं. यह एक्सटर्नल मैलवेयर, वायरस या किसी भी खतरे से बचाने के लिए एप्लीकेशन को अलग करने की अनुमति देता है. इस तरह आइसोलेट करने से यह सिस्टम को अनटेस्ट्स कोड या एप्लीकेशन से सुरक्षित रखता है.

यह भी पढ़ें- सरकार ने दी माइक्रोसॉफ्ट यूजर्स को चेतावनी! हो जाएं सावधान, कहीं पड़ न जाए भारी

यह OS और एप्लीकेशन दोनों में इस्तेमाल किया जा सकता है. OS पर आपको एप्लीकेशन चलाने के लिए यह एक एनवायरनमेंट देता है जहां किसीू दूसरी एप्लीकेशन को एक्सेस नहीं मिलता है. वहीं, अगर एप्लीकेशन लेवल की बात करें तो यह आपको एप्लीकेशन को चलाने और उसके सिक्योरिटी का एनालिसिस करने का काम करता है.

3. Server Virtualization
इस टेक्नोलॉजी का उपयोग करके सर्वर के रिसोर्सेज को छुपाया जा सकता है और उसको मैक्सिमाइज भी कर सकते हैं. वर्चुअल सर्वर इंडिपेंडेंट रूप से चल सकते हैं और रिबूट कर सकते हैं. इसे इस्तेमाल करने का एक यह भी कारण है कि यह आपके ऑपरेटिंग सिस्टम और वर्चुलाइज हार्डवेयर के नीचे एब्स्ट्रेक्ट बनाता है आप बिना किसी समझौते के एप्लीकेशन को वर्चुअल सर्वर के उपयोग के माध्यम से अलग कर सकते हैं.

4. Network Virtualization
एक वर्चुअल नेटवर्क प्रदान करने के लिए इस method में सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर नेटवर्क रिसोर्स को जोड़ा जाता है.  यह अंडरलाइंग हार्डवेयर नेटवर्क का उपयोग करते हुए यह नेटवर्क वर्चुलाइजेशन लॉजिकल वर्चुअल नेटवर्क बनाता है और उसे एक वर्चुअल नेटवर्क से जुड़ता है. वर्चुअल नेटवर्क दो तरह के होते हैं.  पहला  Isolation और  दूसरा Segmentation.

यह भी पढ़ें- Twitter Edit Button: यूजर्स को 21 सितंबर को मिलेगा एडिट बटन, जानिए कैसे करेगा काम

 Isolation और Segmentation नेटवर्क
Isolation कई अलग अलग वर्चुअल नेटवर्क के coexistence की अनुमति देता है जो कि क्लाउड पर एंड-टू-एंड सेवाएं प्रदान करने के लिए जाने जाते हैं. Segmentation एक नेटवर्क को कई sub-network में बांटता है, ताकि उन के माध्यम से ट्रैफिक को कम किया जा सके और परफॉर्मेंस बूस्ट हो सके. यह इंटरनल नेटवर्क स्ट्रक्चर को भी छुपाता है जिससे यह और भी सुरक्षित हो जाता है.

5. Desktop Virtualization
डेस्कटॉप वर्चुअलाइजेशन एक ऐसा स्वरूप है, जहां यूजर्स  को एक्सेस के लिए उपयोग किए जाने वाले फिजिकल कंप्यूटर से इमेज बनाने, उसका करेक्शन करने या डिलीट करने की सुविधा मिलती है.
एडमिनिस्ट्रेशन डेस्कटॉप वर्चुअलाइजेशन को बहुत मददगार मानते हैं क्योंकि यह उनके एंप्लॉय कंप्यूटर को आसानी मैनेज करने की अनुमति देता है, जिससे वे समय-समय पर सोर्स को अपग्रेड करने में या अनऑथराइज्ड एक्सेस को हटाने में आसानी होती है.

परिणाम स्वरूप जब तक सही कंफीग्रेशन, प्रोटेक्शन और परमिशन अपनाए जा सकते हैं तब तक आपके कंप्यूटर को किसी भी मालवीय से कोई खतरा नहीं है. इनके अलावा Virtualization के और भी बहुत सारे तरीके हैं जिनकी मदद से हम हमारी सिक्योरिटी को और भी बढ़ा सकते हैं.

Sagar Rajbhar
Sagar Rajbharhttp://newsddf.com
Sagar is the founder of this Hindi blog. He is a Professional Blogger who is interested in topics related to SEO, Technology, Internet. If you need some information related to blogging or internet, then you can feel free to ask here. It is our aim that you get the best information on this blog.
- Advertisment -
RELATED ARTICLES